आयुर्वेद का अर्थ औषधि - विज्ञान नही है वरन आयुर्विज्ञान अर्थात '' जीवन-का-विज्ञान'' है

Followers

Friday, August 11, 2017

जो गत माह व्हाट्सएप्प पर लिखा

पथरी

पत्थरचट्टा, जिसे पाषाणभेद भी कहते हैं, यह पथरी नही दूर करता सिर्फ पथरी का दर्द दूर करता है।

-------------/------------------
जठराग्नि को तेज करने के लिए

भोजन के बाद सौंफ मिश्री अब बंद कर देनी चाहिए ।पूरे देश के पेट के मरीजों की तकलीफ का विश्लेषण करके मैंने यह नतीजा निकाला है कि अपने पेट की उपापचय की क्रिया अर्थात जठराग्नि को सही रखने के लिए जरूरी है कि भोजन के बाद 10 तुलसी के पत्ते 4 दाने काली मिर्च और सिर्फ एक पीपल का पत्ता चबाया जाना चाहिए।
लीवर की लाइन एवं लेंथ बिल्कुल दुरुस्त हो जाएगी।एक माह लगातार ले लीजियेगा उसके बाद गैप भी हो जाये तो चिंता की बात नही।
इसे चूर्ण बनाकर भी रखा जा सकता है।

---------------------------------
गैस का इलाज

अगर आप एसिडिटी, गैस, पेट की समस्या से पूर्णतया छुटकारा चाहते हैं तो अपनी रसोई में एक छोटा सा बदलाव करें।
दाल, सब्जी आदि जिन भी भोज्य पदार्थ को छौंक लगाई जाती है उस छौंक में सौंफ जरूर डाली जाए।चाहे जिस चीज से छौंके लेकिन सौंफ जरूर जरूर और जरूर जलनी चाहिए।एक सप्ताह बाद ही घर के सभी मेम्बर को राहत मिलनी शुरू हो जाएगी।

----------------------------------
हड्डियों में फ्रैक्चर

जिनकी हड्डियों में किसी वजह से फ्रैक्चर हुआ हो या माइनर फ्रैक्चर हुआ हो वे पुराने चावल बना कर खाएं।पुराने चावलों में हड्डी जोड़ने की अद्भुत क्षमता होती है।ऐसा महान वैद्य सुश्रुत का कहना है।अतः अकाट्य है।

--------------------------------
डेंगू,चिकनगुनिया से बचाव

सावन अपनी रिमझिम फुहारों के साथ बहार पर है,किन्तु सावधान मच्छरों से होने वाले रोग भी अपनी पराकाष्ठा पर हैं। इसलिए डेंगू, चिकनगुनिया, स्वाइन फ्लू, इंसेफेलाइटिस आदि इत्यादि रोगों से बचने के लिए रोज कलौंजी अर्थात मंगरैला से दाल, सब्जी आदि में छौक जरूर लगाएं बल्कि 20 दाने कलौंजी के यूं ही चबा के खा लें ।बच्चे बूढ़े सभी।

---------------------------------
हमारा शरीर

शरीर मे 7 धातुएं होती हैं---
वात
पित्त
कफ
मल (पुरीष )
मूत्र
रक्त
वीर्य
ये सभी प्राण वायु को ताकत प्रदान करती हैं।अतः सभी की उचित मात्रा शरीर मे बनी रहनी चाहिए।

------------------------------
गठन में दर्द का इलाज

शरीर में कहीं भी गठान हो जाये और दर्द करती हो तो उस पर काले तिल पानी में पीस कर लेप कीजिये,थोड़ा मोटा लेप।जौ भी पीस कर लेप लगा सकते हैं।यह बहुत फायदा करता है ।अंदर ही अंदर दूषित रक्त को बिखेर देता है।
यह लेप ऐसे घाव में भी फायदा देगा जो जल्दी ठीक न हो रहा हो।

----------------------------------
पेट अंदर करने की सालिड दवा

पेट समतल करना है ?
3 महीने के फुल कोर्स का खर्च 24000 मात्र ।
शुद्ध आयुर्वेदिक।
न लूज मोशन , न परहेज।

-------------------------------
एसिडिटी और नपुंसकता

एसिडिटी की दवा खाने वाले के प्रजनन अंग शिथिल हो जाते हैं, अतः कामेच्छा खत्म या कम हो जाती है।
अतः एसिडिटी की दवा से बचना ही बुद्धिमानी है।
---------------------------------

वैद्यों से

यह लेख मैं उन विद्वान वैद्यों के लिए लिख रही हूँ, जो दर्जनों जड़ी बूटियों को मिला कर किसी रोग की दवा बनाने की विधि व्हाट्सएप्प पर पोस्ट करते रहते हैं।ज्यादा मिश्रण का प्रभाव क्या होता है यह ऊपर पुस्तक के पृष्ठ में स्पष्ट लिखा है। वे प्रबुद्ध पाठक भी ध्यान दें, जो व्हाट्सएप्प पढ़ कर दवा बनाने की कोशिश करते हैं। मैं इससे भी सहमत नहीं हूं कि किसी कम्पनी द्वारा निर्मित दवाओं को कूट पीस कर आपस में मिश्रित करके दवा तैयार की जाय क्योंकि वहां भी अपमिश्रण होकर गुणधर्म चेंज हो सकते हैं।जबकि 2 या 4 जड़ी बूटियों का मिश्रण ज्यादा शक्तिशाली होता है।फिर भी मैं अकेली औषधि ( जड़ी बूटी) से दवा तैयार करने के पक्ष में हूँ, क्योंकि वह पूर्णतया निरापद है और पूर्ण चंद्रमा की तरह शरीर में प्रकाश फैलाती है।
--------------------------------

पाइल्स के लिए

अगर आपको बवासीर ( पाइल्स ) की समस्या है तो जिमीकंद/सूरन/ओल का अचार रोज खाइये।लेकिन अचार में ज्यादा मसाले मिर्च न डलवाएं।तेल ज्यादा ही रखें।बवासीर और कब्ज जड़ से खत्म होगी।
---------------------------------

भादो में दही नहीं

भादो का महीना शुरू हो चुका है, इस माह में दही खाना वर्जित है।इस माह में दही खाने से पेट की पाचक क्षमता पर बहुत खराब असर पड़ता है ,जिसका दुष्परिणाम बदहजमी से लेकर पेट निकलने के रूप में सामने आता है।

1 comment:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (13-08-2017) को "आजादी के दीवाने और उनके व्यापारी" (चर्चा अंक 2695) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'